Exclusive: योगी सरकार का यूपी को बड़ा झटका, 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती रद्द

बीते दिनों योगी सरकार ने राज्य के स्चूलों में शिक्षकों की भर्ती का ऐलान किया था ज्सिके बाद से ही योगी सरकार का नारा हर घर में गूंझ रहा था. परंतु इस बार शायद योगी सरकार अपने वादे से मुकरती नजर आ रही है. आपको बता दें कि अल्पसंख्यको से जुड़े प्रतीकों की अनदेखी के चलते इससे पहले भी कईं बार योगी सरकार पर आरोप लग चुके हैं. ऐसे में अब उत्तरप्रदेश की सरकार ने बेसिक शिक्षा विभाग में आई 4 हज़ार उर्दू शिक्षकों की भर्ती को रद्द कर दिया है.

योगी सरकार का दावा है कि राज्य में पहले से ही जरूरत से अधिक उर्दू शिक्षक है ऐसे में और भर्ती नहीं की जा सकती. आपको बता दें कि यूपी में उर्दू शिक्षकों की भर्ती का ऐलान पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 15 दिसंबर 2016 को किया था और 4 हज़ार उर्दू शिक्षकों को नौकरी देने की प्रशासनिक मंजूरी दी थी. इस ऐलान के बाद ही उर्दू शिक्षकों के लिए भर्तियाँ शुरुर कर दी गयी थी. मगर अब योगी सरकार के इस फैसले ने कईं लोगों की बोलती बंद कर दी है.

सरकार बदलने पर भर्ती करने की प्रक्रिया हंडे बसते में थी और अब योगी सरकार के आदेश के बाद इस भर्ती को पूरी तरह से नकार दिया गया है. यानी अब शिक्षकों की भर्ती तो होगी लेकिन सभी 16460 पद अब आम स्कूलों के शिक्षकों से भरे जाएंगे. आपको बता दें कि योगी सरकार पर मुस्लिमो से जुडी क्रियाओं को अनदेखा करने के इल्जाम इससे पहले भी कईं बार लग चुके हैं. ऐसे में उर्दू शिक्षकों की भर्ती रोकने से एक बार फिर से सरकार पर कईं उँगलियाँ उठायी जा रही हैं.

News Source

 

By: Kirti Kalra on Tuesday, October 9th, 2018