TTE से सेटिंग करके वेटिंग टिकट पर सीट लेने का फॉर्मूला पुराना हो जाएगा, कन्फर्म सीट का नया तरीका आ गया है!

अक्सर जब लोग ट्रेन में सफर करते है तो सीट बुकिंग पहले से कर लेते है. कुछ लोग तो इनमें से ऐसे भी होते है जो TTE से सेंटिग करके सीट ले लेते है इनकी वजह से उन लोगो को सीट नही मिल पाती है, जिन्हें वास्तव में वह सीट मिलनी चाहिए. इस तरह की हेरा फेरी आमतौर पर TTE द्वारा की जाती है. लेकिन रेलवे ने भी अब TTE की इस हेराफेरी को देखते हुए एक ऐसा समाधान निकाला है जिसे पढकर आप हैरान रहने वाले है.

दरअसल अब वेटिंग टिकट सिर्फ उसी व्यक्ति की कन्फर्म होगी जो उसका वास्तविक हकदार होगा. इस बीच कोई भी TTE से सेटिंग करके उस सीट को नही ले सकता है. इसके लिए रेलवे ने अब हर TTE को एक हैंड मशीन देने का फैसला किया है. इस मशीन के जरिए जिस क्रम में यात्रियों की वेटिंग या RAC होगी, उसे सीट मिलती जाएगी.

जानिये कैसे काम करेगी ये मशीन 

TTE को जो मशीन दी जाएगी वह नोटपैड के बराबर होगी. ये मशीन इंटरनेट और रेलवें के मेन सर्वर से कनेक्ट होगी. जिन लोगो ने ट्रेन में सीटों की बुकिंग की होगी उनका पूरा चार्ट इसमें डिस्प्ले होगा. इस बीच अगर कोई ट्रेन में सफर नही करता है तो उसका पूरा ब्यौरा TTE भरेगा जिसकी पूरी जानकारी मेन सर्वर पर चली जाएगी. इस तरह से TTE हेरा फेरी नही कर सकेगा.

रेलवे द्वारा जारी की गयी मशीन की व्यवस्था जिस ट्रेन में सबसे पहले लागू होने वाली है वह ट्रेन फिरोजपुर मंडल रेलवे की अमृतसर-नई दिल्ली शताब्दी एक्सप्रेस है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शताब्दी एक्सप्रेस जोकि फिरोजपुर से नई दिल्ली के बीच चलती है उसमें बहुत जल्द ये व्यवस्था शुरू होने वाली है. इस तरह से अगर इन दोनों ट्रेनों में किया जाने वाला ये प्रोजेक्ट पास हुआ तो फिर आगे सभी ट्रेनों में ये व्यवस्था शुरू कर दी जाएगी. इससे TTE पैसे लेकर किसी को भी सीट नही पाएंगे.

News Source 

By: Mukesh Saksham on Friday, December 21st, 2018