UP में बोर्ड परीक्षा के पहले दिन 1.8 लाख विद्यार्थी रहे गायब, और इसका कारण हैं योगी आदित्यनाथ! 

उत्तर प्रदेश में बहुत कुछ बदला है जबसे योगी ने वहां कमान संभाली है| और सबसे पहली चीज़ जिसपर उन्होंने काम किया है वो है किसी भी कार्यक्षेत्र में धांधलियां रुकवाना| और ऐसा ही उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में भी किया है!

और ये योगी की ही मुहीम का असर है कि वहां अब नक़ल पूरी तरह से बंद है और उनके खौफ का आलम ये है कि वह की बोर्ड की परीक्षाएं बुरी तरह प्रभावित हुई हैं| हाल ही में शुरू हुई बोर्ड की परीक्षाओं के पहले ही दिन करीब 1.8 लाख अनुपस्थित रहे, जो कि एक काफी बड़ा आंकड़ा है!

योगी ने शिक्षा की गुणवत्ता बढाने को लिए हैं कुछ सख्त कदम! 

योगी सरकार शिक्षा के क्षेत्र में चल रही अनियमितताओं के खिलाफ एक्शन में आ गयी है| साथ ही योगी ने राज्य में लगातार गिरते शिक्षा के स्तर के कारणों का भी पता लगाने को कहा है| और जैसा कि जाहिर है, इसके सबसे बड़े कारणों में से एक है नक़ल|

हाल ही में एक विशेष रूप से गठित टीम ने 2 शिक्षकों और खुद हेडमास्टर को विद्यार्थियों को नक़ल करवाते हुए रंगे हाथों पकड़ा था| और क्योंकि विद्यार्थी नक़ल के भरोसे आगे निकलना सीख चुके हैं, वे आगे भी ऐसी अनियमितताओं का साथ देने से गुरेज नहीं करने वाले!

खुद उत्तर प्रदेश के शिक्षा उप निदेशक ने दिए हैं आंकड़े! 

उत्तर प्रदेश के डिप्टी डायरेक्टर ऑफ़ एजुकेशन विकास श्रीवास्तव ने बताया कि मंगलवार को बोर्ड परीक्षा के पहले ही दिन करीब 1,80,826 विद्यार्थी नदारद रहे| और इसमें 53,100 हाई स्कूल और 1.27 लाख से ज्यादा इंटरमीडिएट स्कूल शामिल हैं|

हरदोई में 6 तारीख को होने वाली परीक्षा में 11,141 विद्यार्थी परीक्षा देने नहीं पहुंचे थे| और उसी तर्ज़ पर आजमगढ़ में 8,842 विद्यार्थी गायब रहे| वहीँ जौनपुर और गोंडा में क्रमशः 6,330 और 6,299 विद्यार्थी परीक्षा हाल में नदारद पाए गये|

अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आज तक राज्य में किस स्तर की धांधलियां शिक्षा के क्षेत्र में होती रहीं हैं| और अब जब योगी ने इस दिशा में कड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं, ऐसा कुछ होना एक तरह से लाज़मी भी है| और इसमें भी कोई दो राय नहीं है कि आने वाले समय में ऐसे सख्त कदम वहां स्थिति सुधारने में प्रभावी जरूर सिद्ध होंगे!

Source: Postcard News 

By: Sharma on Friday, February 9th, 2018