रेप के मामले देखकर संयुक्त राष्ट्र ने की भारत को लेकर यह बड़ी घोषणा! 

महिलाओं के प्रति अपराध हमेशा से ही पूरी दुनिया के लिए एक चुनौती रही है| लेकिन पिछले कुछ समय से जिस तरह भारत ने इस मामले में बाकी देशों को पीछे छोड़ा है, वह बेहद शर्मनाक है| और यहाँ सबसे शर्मनाक बात यह है की रेप पर आज तक दी जाने वाली अजीबोगरीब सफाई भी अब झूठी साबित हो रही हैं|

महिलाओं के अपराधी पहले लड़कियों के छोटे कपडे पहनने जैसे घटिया बहाने बनाकर बलात्कार को सही ठहराने की कोशिश करते थे| लेकिन अब तो उन्होंने सारी हदें पार करके नाबालिग बच्चियों को भी अपनी हवस का शिकार बनाना शुरू कर दिया है| और हाल ही में हुए उनाव और कठुआ के रेप मामलों ने तो पूरे देश को हिला कर ही रख दिया है|

सिर्फ भारत, बल्कि देश में बढ़ रही बलात्कार की घटनाओं पर पूरे विश्व ने दिखाई चिंता! 

जिस तरह से देश में बलात्कार की घटनाएं आम हो गई हैं, अब यह सिर्फ हमारी ही समस्या नहीं रही, बल्कि पूरा संसार हमारे लिए चिंतित है| और एक तरह से यह शर्म की बात है| दिल्ली का निर्भया काण्ड इतना भयानक था कि सारी दुनिया दहशत में आ गई थी| और उसके बाद से आज तक लगातार ऐसी घटनाएं होती आ रही हैं|

और अब मामला इतना बढ़ गया है कि संयुक्त राष्ट्र को भी इस मामले पर बोलना पड़ा है| और सारी दुनिया के सामने भारत पर उंगली उठने से हमारी कितनी फजीहत होगी यह समझना कोई मुश्किल काम नहीं है| और वो भी ऐसे दौर में जहां एक कुशल सरकार के बूते हम सफलता की नई बुलंदियां छू रहे हैं|

भारत बीमार मानसिकता का गुलाम जहां बलात्कारियों को बचाने के लिए रैली निकाली जाती है – संयुक्त राष्ट्र 

अब सारी दुनिया के सामने संयुक्त राष्ट्र का ऐसा कहना हमारे लिए कितनी बड़ी जिल्लत है यह आप अच्छे से समझ सकते हैं| हाल ही में एक 8 साल की बच्ची के साथ जो हुआ, और उसके बाद जैसे बड़ी ही बेशर्मी से आरोपियों को बचाने के लिए नारे लगे, तो फिर कोई दूसरा तो हमारे बारे में यही सोचेगा!

By: Sharma on Monday, April 16th, 2018