पीएम मोदी के इस कदम के बारे में जानकर विरोधी रातभर नहीं सो पायेंगे, इस बार वो होगा जो इतिहास में कभी नहीं हुआ !

पीएम मोदी ने भारत के हित में कई बड़े कदम उठाये हैं और देश को विकास की रह दिखाई है, उनके क़दमों से विपक्ष बुरी तरह से बौखलाया हुआ है और एक के बाद एक घटिया हरकत करते हुए पीएम मोदी को नीच दिखने में लगा है लेकिन कभी सफल नहीं हो पाया है. हालत यह है कि अकेले पीएम को हराने के लिए कई पार्टी ने आपस में गठबंधन किया था. अब पीएम मोदी ने एक ऐसा कदम उठाया है जिसके बारे में जानकर आपको बेहद गर्व होगा और विरोधी खेमे में सांप सूंघ जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्‍वीडन और ब्रिटेन के 5 दिवसीय दौरे पर सोमवार, 16 अप्रैल को स्‍वीडन की राजधानी स्‍टॉकहोम पहुंच रहे हैं. अपनी इस यात्रा के दौरान पीएम मोदी 17 अप्रैल को पहले इंडिया-नोर्डिक शिखर सम्‍मेलन में भी शामिल होंगे. बता दें कि स्‍वीडन, नॉर्वे, फिनलैंड, डेनमार्क और आइसलैंड देशों को सामूहिक रूप से नोर्डिक देश भी कहा जाता है. इस लिहाज से भारत के लिए यह एक अच्छा अवसर है कि इस क्षेत्र के 5 राष्‍ट्रप्रमुखों के साथ पीएम मोदी की बैठक होगी. वहीँ इस सम्मेलन में शामिल होने के साथ ही पीएम मोदी एक बड़ा इतिहास रच देंगे.

जी हाँ आपको बता दें कि इससे पहले यह सम्‍मान केवल अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति बराक ओबामा को मिला था. अब इस लिस्ट में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का भी नाम जुड़ जाएगा. बराक ओबामा को उनके कार्यकाल के दौरान इस तरह नोर्डिक देशों के प्रमुखों के साथ अमेरिका-नॉर्डिक शिखर सम्‍मेलन आयोजित हुआ था. उसके बाद अब एक बार फिर इस तरह का आयोजन दूसरी बार हो रहा है. इस तरह से पीएम मोदी इस सम्मेलन में शामिल होने के साथ ही इतिहास रच देंगे. 

भारत के लिए इस तरह का प्रयास इस लिए भी बहुत खास है क्‍योंकि परंपरागत रूप से भारत यूरोप के देशों के साथ इस तरह की बातचीत के लिए यूरोपीय संघ के मंच का इस्‍तेमाल करता रहा है, लेकिन इस बार पहली बार भारत यूरोपीय देशों के साथ बातचीत के लिए इस तरह का अभ्‍यास कर रहा है. पीएम मोदी का यह दौरा एक बड़ी कूटनीतिक रूप से भारत के लिए काफी अच्छा साबित हो सकता है.

स्वीडन से पीएम मोदी मंगलवार को ब्रिटेन जायेंगे जहां वह अपनी ब्रिटिश समकक्ष टेरीजा मे के साथ द्विपक्षीय भेंटवार्ता के साथ ही राष्ट्रमंडल देशों के शासनाध्यक्षों की बैठक में भी सम्मिलित होंगे. अपनी इस यात्रा को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि:

लंदन की मेरी यात्रा दोनों देशों को इस बढ़ती द्विपक्षीय साझेदारी में एक नई गति पैदा करने का एक मौका प्रदान करती है. मैं स्वास्थ्य, नवोन्मेष, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी, डिजिटलीकरण, स्वच्छ ऊर्जा और साइबर सुरक्षा के क्षेत्रों में भारत-ब्रिटेन साझेदारी बढ़ाने पर बल दूंगा.

Source: India 1st

By: Shah on Tuesday, April 17th, 2018