ट्रिपल तलाक और निकाह हलाल से परेशान मुस्लिम महिला अपनायेगी हिन्दू धर्म

गाजियाबाद में एक मुस्लिम महिला ने कथित तौर पर घोषणा की है कि वह हिंदू धर्म को अपनाएगी , क्योंकि वह ट्रिपल तलाक और निकाह हलाल जैसे दकियानूसी प्रावधानों को बर्दाश्त नहीं कर सकती है । दैनिक जागरण ने आज बताया की 25 वर्षीय महिला ने बुधवार को इस संबंध में उनके पत्रकारों से बात कर अपनी व्यथा बताई थी वह हिन्दू समाज से उसको अपनाने की गुजारिश की थी.

यह बात ठीक भी है की ट्रिपल तलाक और निकाह हलाल जैसे प्रावधान महिला विरोधी हैं लेकिन खैर इन पर कोई बुद्धिजीवी अपना अवार्ड वापिस नहीं करेगा.मुस्लिम महिला ने कहा की उसके पति ने उसे ट्रिपल तलाक दे दिया था , उसके बाद, उसने उसे मजबूर करके निकाह हलाल के लिए एक दोस्त के पास उसे भेजा दिया.

यदि कोई व्यक्ति अपनी पत्नी के सामने तीन बार “तलाक ” शब्द का उच्चारण कर दे , या कहे की मैंने तुझे तीनों तलाक दे दिए , तो तलाक हो जाती है ..क्योंकि इस कथन को उस व्यक्ति की कसम माना जाता है .जैसा की कुरान ने कहा है ,

” और अगर तुम पक्की कसम खाओगे तो उस पर अल्लाह जरुर पकड़ेगा “सूरा – मायदा 5 :89
तलाक के बारे में कुरान की इसी आयत के आधार पर हदीसों में इस प्रकार लिखा है ,
-“इमाम अल बगवी ने कहा है , यदि कोई व्यक्ति अपनी पत्नी से कहे की मैंने तुझे दो तलाक दिए और तीसरा देना चाहता हूँ , तब भी तलाक वैध मानी जाएगी .और सभी विद्वानों ने इसे जायज बताया है.(Rawdha al-talibeen 7/73”
“فرع قال البغوي ولو قال أنت بائن باثنتين أو ثلاث ونوى الطلاق وقع ثم إن نوى طلقتين أو ثلاثا فذاك

-“इमाम इब्न कदमा ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति अपनी पत्नी से कहे कि मैंने तुझे तीनों तलाक दे दिए हैं . लेकिन चाहे उसने यह बात एक ही बार कही हो , फिर भी तलाक हो जायेगा .Al-Kafi 3/122

إذا قال لزوجته : أنت طالق ثلاثا فهي ثلاث وإن نوى واحدة“

हम आप को बता दें के शरीयत कानून में एक विवाहित जोड़े जो एक तलाक की प्रक्रिया से गुजर चुके हैं ,तब तक पुनर्विवाह नहीं कर सकते जब तक कि औरत से वास्तव में एक और आदमी शादी नहीं कर लेता. इस मामलेमें तलाक़ के बाद अपने दूसरे पति के साथ महिला की शादी को (निकाह) निकाह हलाल कहा जाता है.

महिला ने संवाददाताओं से कहा कि धर्म के नाम पर मुस्लिम महिलाओं के एक बहुत बड़े दुख से गुजरना पड़ता है, लगभग हर मुस्लिम महिला को इस प्रकार के अत्याचार का सामना करना पड़ रहा है. एक स्थानीय संगठन, जय शिव सेना इस मुस्लिम बहन की हर प्रकार से मदद का वादा किया है और कहा है की वह उसे हिन्दू धर्म परिवर्तन में पूर्ण सहयोग करेगी. गौरतलब है की ,जयपुर में एक ऐसी ही हुई जिसमें एक मुस्लिम व्यक्ति ने अपनी पत्नी को निकाह हलाल के तहत एक दोस्त के साथ सोने के लिए मजबूर किया था.

By: K Bharat on Friday, November 4th, 2016

loading...