तिरंगा लहराने के बाद मौलवी ने राष्ट्रगान गाने से किया इनकार, तो देखिये फिर क्या हुआ…

बीते दिन भारत देश में स्वतंत्रता दिवस काफी धूम धाम से मनाया गया. इस साल भारत ने अपनी आज़ादी के पूरे 72 वर्ष पूरे कर लिए. जिसकी ख़ुशी मनाने के लिए पूरे देश ने भर चढ़ कर हिस्सा लिया. इसी बीच एक मौलवी का विडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल होता देखने को मिला. ख़बरों की माने तो यह विडियो भी 15 अगस्त का ही है. जहाँ एक मौलवी ने झंडारोहण करने के बाद राष्ट्रगीत गाने से इनकार कर दिया. जिस पर वहां मौजूद सभी लोग दंग रह गये.

बताया जा रहा है कि इस मौलवी का नाम जुनैद अंसारी है. जुनैद अंसारी यही नहीं रुका बल्कि उसने वहां मौजूद सभी स्टूडेंट्स को राष्ट्रगान पढ़ने से रोक दिया. वीडियो में आप देखेंगे कि झंडा फहराने की रसम के बाद मौलवी सीधे हाथ बांधकर खड़ा हो गया जिसके बाद वहां मौजूद एक अन्य व्यक्ति ने छात्रों को राष्ट्रगान पढ़ने के लिए कहा तो अंसारी ने सबको मना कर दिया. मौलवी ने कहा कि यहां राष्ट्रगान नहीं होता इसलिए हमारे यहां कोई बच्चा राष्ट्रगान नहीं पड़ेगा इस पर गुस्साए शख्स ने राष्ट्रगान ना गाने की वजह पूछी तो मौलवी ने बताया कि उनके वहां राष्ट्रगान पढ़ना जायज नहीं माना जाता.

यह वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर धूम मचा रहा है. वीडियो देख कर सभी यूजर अपनी अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं. एक व्यक्ति ने कमेंट में लिखा कि “ऐसी बहस देखने के बाद मेरा हृदय राष्ट्र के लिए रो रहा है”. जबकि एक अन्य ट्वीट में लिखा गया कि, “राष्ट्र है इसीलिए आप और धर्म है.” वहीं कुछ लोगों के अनुसार इस मौलवी को भारत का विरोधी माना जाना चाहिए और चीन की तरह इन जैसे लोगों पर सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए.

हालांकि इस मामले पर महाराजगंज की पुलिस ने अपनी सफाई पेश की है और ट्वीट के दौरान लिखा है कि , “अध्यापकों ने शुरुआत में राष्ट्रगान से मना किया था, लेकिन बाद में वहां राष्ट्रगान गाया गया.” पुलिस के अनुसार यदि जांच में कोई प्रतिकूल तथ्य नहीं पाया जाता तो आगे कार्रवाई नहीं की जाएगी.

News Source

By: Kirti Kalra on Thursday, August 16th, 2018