JNU देशद्रोह मामले में कन्‍हैया कुमार और उमर खालिद को बड़ा झटका

नई दिल्ली: राजनीति में हाल ही में कदम रखने वाले कन्‍हैया कुमार( स्टूडेंट यूनियन के प्रेसिडेंट रह चुके) और उमर खालिद पर इन दिनों खतरों का साया मंडराता हुआ नजर आ रहा है. सूत्रों के अनुसार जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी में देश के विरोध में जमकर नारे लगाने के मामले में दिल्ली पुलिस जल्द ही दोनों के खिलाफ चार्जशीट दायर करने वाली है. इस मुताबिक बहुत जल्द दिल्ली पुलिस जेएनयू देशद्रोह मामले में कन्‍हैया कुमार और उमर खालिद के खिलाफ पटियाला हाउस कोर्ट में चार्जशीट कर देगी.

इस चार्जशीट में उमर खालिद, कन्‍हैया कुमार, अनिर्बान भट्टाचार्य समेत कुछ अन्य छात्रों के नाम शामिल हैं. सूत्रों के हवाले से मिली ताजा जानकारी के अनुसार इस चार्जशीट को फिलहाल दिल्ली पुलिस ने लोक अभियोजक के पास भेजा है. पुलिस के अनुसार जवाहर लाल नेहरु में लगाए गए देश विद्रोह के नारे लगाने वालों के खिलाफ लाइव फुटेज प्राप्त किए गए हैं जिन्हें अब सीबीआई की सीएफएसएल में जांच के लिए भेजा गया था.

इस जांच के बाद मिले नमूने पॉजिटिव पाए गए थे. इन सबूतों में मौके पर मौजूद लोगों द्वारा बनाए गए विडियो, उनके बयान और फेसबुक पोस्ट्स शामिल हैं. बता दें कि इस मामले में करीबन 30 लोग संदिग्ध पाए गए थे लेकिन सबूत ना होने के कारण पुलिस चुप बैठी थी. लेकिन अब पुलिस को जेएनयू प्रशासन, एबीवीपी स्टूडेंट, सिक्योरिटी गार्ड और कुछ छात्र गवाह मिल चुके हैं, जो इस मामले को एक नया मोड़ देने जा रहे हैं.

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि यह पूरा मामला 9 फरवरी 2016 का है. जहाँ जेएनयू कैंपस में अफज़ल गुरु की फंसी को लेकर विरोध कार्यक्रम रखा गया था. इस दौरान कईं देश विरोधी नारों ने कैंपस का माहोल गर्म कर दिया था. घटना के बाद पुलिस ने दिल्ली के वसंत कुंज नॉर्थ थाने में कन्‍हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को गिरफ्तार किया गया था लेकिन सबूतों की कमी के रहते उन्हें अदालत ने तब जमानत दे दी थी.

News Source

 

By: Staff on Friday, December 21st, 2018