‘लंगर सेवा पर GST’ को लेकर अरुण जेटली ने ‘आप की अदालत’ में दिया बड़ा ब्यान!

हाल ही में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आम बजट पेश किया और उस पर लोगों की मिलीजुली प्रतिक्रिया रही| फिर बजट को लेकर विपक्ष ने सरकार पर हमला बोला और जमकर आलोचना की| लेकिन अरुण जेटली ने साड़ी आलोचनाओं का खंडन करते हुए बजट पर अपना पक्ष रखा|

शनिवार को जेटली इंडिया टीवी के बहुचर्चित शो ‘आप की अदालत’ में नजर आये| इस दौरान उन्होंने रजत शर्मा द्वारा पूछे गये सभी सवालों का पूरी इमानदारी और आत्मविश्वास से जवाब दिए| उन्होंने ये साफ़ किया कि ये बजट आम आदमी और किसानों के हितों को ध्यान में रखकर बनाया गया है|

और जब ‘लंगर सेवा पर GST’ को लेकर रजत शर्मा ने जेटली से किया सवाल 

इस दौरान ये मुद्दा छाया रहा कि सरकार क्यों लंगर सेवा पर GST लगाना चाह रही है| और इसको लेकर रजत शर्मा ने उनसे सवाल भी किया|

रजत ने पूछा –

‘आज यहाँ एक दिलचस्प सवाल उठा है| एक सरदारजी ने कहा कि गुरुद्वारे में हम लोग लंगर देते हैं| एक करोड़ लोगों को रोज़ मुफ्त में खाना देते हैं| और अरुण जेटली जी ने उसपर भी GST लगा दिया|’

और रजत के ये सवाल पूछते ही जेटली ने फटाक से इस पर अपना स्पष्टीकरण दिया| उन्होंने कहा कि गुरुद्वारों में दिए जाने वाले लंगर पर GST लगाने का सरकार का कोई इरादा नहीं है और न ही इसका कोई तुक बनता है|

उन्होंने कहा –

‘बिलकुल नहीं लगा, ये भी सोशल मीडिया कैंपेन था।’

फिर इस बारे में जेटली ने भरी सभा में सरकार का पक्ष रखते हुए स्थिति कुछ इस तरह स्पष्ट की – ‘GST लगता है उस प्रॉडक्ट पर, जो बेचा जाता है। सिख धर्म की महानता ये रही है कि जो गुरु परंपरा थी, उसके तहत कोई आदमी भूखा न मरे, इसलिए हर गुरुद्वारे में मुफ्त में खाना खा सके। वो बिकता नहीं है, इसलिए उस पर GST नहीं लगता।

अब उस पर आटा लगता है, चावल लगता है, उस पर तो GST नही हैं। लेकिन कोई कहे कि मंदिर के लिए घी खरीद रहा हूं, तो GST माफ कर दो, मुझे क्या पता कि आप मंदिर के लिए खरीद रहे हो या हल्दीराम की दुकान के लिए। जब गुरुद्वारे, मस्जिद या मंदिर की बिल्डिंग बनी थी, तो जो सीमेंट लगा था, उस पर एक्साइज ड्यूटी लगी थी ना। क्योंकि मंदिर में प्रसाद या गुरुद्वारे में लंगर बिकता नहीं है, इसलिए इस पर कोई GST नहीं है।’

डिटेल्स के लिए देखें इस बातचीत का ये विडियो:

 




By: Sharma on Tuesday, February 6th, 2018

get I Suppport Namo app here