हेलिकॉप्टर से उतरकर मारा था आतंकियों को, अब कश्मीर में हुआ शहीद

बुधवार की सुबह जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा जिले में आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में वायुसेना के दो गरुड़ कमांडो शहीद हुए। इनमें से एक जवान मिलिंद खैरनार भी थे, जिन्होंने मुंबई हमले के दौरान नरीमन हाउस में घुसकर आतंकियों को मौत के घाट उतारा था। महाराष्ट्र के नंदुरबार जिले के रहने वाले मिलिंद कुछ समय से चंडीगढ़ में पोस्टेड थे। हाल ही में वे ट्रेनिंग के लिए जम्मू कश्मीर गए थे और तभी राख पारिबल हाजिन इलाके में 3 से 5 आतंकियों के छिपे होने की खबर सेना को मिली। इस खबर के मिलते ही सेना और पुलिस कर उन् आतंकियों को ढेर करने ऑपरेशन छेड़ा।

बताया जा रहा है की बदीचोरा के हाजी इलाके में सुबह के शुरुआती घंटों में सुरक्षा बलों और आतंकवादी झगड़े करते हैं। इस समय भारतीय जवानों ने आतंकवादियों को फायरिंग का अच्छा जवाब दिया। इस फायरिंग में दोनों आतंकवादी मारे गए लेकिन इस संघर्ष में दो भारतीय सैनिक – सर्जेंट मिलिंद खैरनार और कॉर्पोरल निलेश कुमार शहीद हो गए।

जम्मू कश्मीर ट्रेनिंग पर जाने से पहले मिलिंद अपने परिवार के साथ चंडीगढ़ में अपनी पत्नी हर्षदा और दो बेटियों वेदिका (5 वर्ष) और कृष्णा (2 वर्ष) के साथ रहते थे। हाल ही में उनके माता पिता भी उनके परिवार साथ चंडीगढ़ रह रहे है। उनके बड़े भाई मनोज खैरनार मुंबई पुलिस में जवान हैं और पिता बिजली विभाग में कार्यरत थे।

मिलिंद की शहादत पर गर्व महसूस करते हुए उनके पिता ने कहा की, “मिलिंद के शहीद होने पर मुझे गर्व है। वह देश के लिए शहीद हुआ। मुंबई में भी उसने आतंकियों को ठिकाने लगाया था।”

साल 2002 में मिलिंद वायुसेना में भर्ती हुए थे। इसके बाद उनकी पोस्टिंग दिल्ली, पश्चिम बंगाल, गुजरात के कई इलाकों में हुई। और कुछ समय से वह चंडीगढ़ में रह रहे थे। देखिये परिवार के साथ मिलिंद की कुछ तस्वीरें:




By: M Thakur on Thursday, October 12th, 2017

get I Suppport Namo app here