ISI के हनीट्रैप में फंसा एयरफोर्स का ग्रुप कप्तान, कर दी ये बड़ी भूल! 

दिल्ली पुलिस ने भारतीय वायुसेना के ग्रुप कैप्टेन अरुण मारवाह को खुफिया जानकारी लीक करने के जुर्म में गिरफ्तार कर दिया है| इस अधिकारी को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया है और ये कार्रवाई ऑफिसियल सीक्रेट एक्ट के तहत की गयी है|

मारवाह पर आरोप है कि उन्होंने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI को कई खुफिया जानकारियाँ दी हैं| खबर है कि वे काफी समय से ISI के एजेंट्स के संपर्क में थे और उनकी सारी बातचीत सोशल मीडिया के माध्यम से होती थी| अब अरुण मारवाह को 5 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है!

ISI ने हनीट्रैप के माध्यम से शिकंजे में लिया अरुण को, और जुटा ली अहम् जानकारी 

पाकिस्तान की सबसे बड़ी खुफिया एजेंसी ने अरुण को हनीट्रैप के माध्यम से अपने जाल फंसाया और फिर उनका इस्तेमाल किया| आरोप है कि अरुण काफी महीनों से ISI की महिला एजेंट्स के संपर्क में थे| खबर के मुताबिक़ अरुण ने ये दस्तावेज़ किरण रंधावा नाम की फेसबुक ID पर शेयर किये हैं|

कुछ समय पहले अरुण त्रिवेंद्रम गये थे और वहां एक साथी के जरिये उनको इस ID से इनविटेशन आया थाऔर फिर इन्होने चाट करना शुरू कर दिया और इसी बीच इनके बीच फोटोज और वीडियोज भी शेयर होने शुरू हो गये|

अरुण ने खुद क़ुबूल किया कि उन्होंने मसंजर पर ही कुछ जरूरी दस्तावेज़ किरण रंधावा को भेजे| इसके साथ ही वो महिमा नाम से चल रही एक और ID के भी संपर्क में थे| उन्होंने ये भी बताया कि उन्होंने इसके लिए न तो कोई पैसे लिए, और न ही कभी इस लड़की से मिले हैं|

अश्लील बातचीत के जरिये गुमराह किया गया अरुण को! 

अरुण काफी सीनियर अफसर हैं लेकिन उन्हें काफी योजनाबद्ध तरीके से इस सब में फसाया गया| ISI एजेंट्स ने लड़की बनकर उनसे बातचीत की और सेक्स चैट के जरिये उन्हें अपने काबू में कर लिया| और जब उन्होंने अरुण का पूरा भरोसा जीत लिया, फिर उनसे कुछ अहम् दस्तावेजों की माग की|

हालाँकि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि अरुण ने कौन कौन से दस्तावेज़ ISI को मुहयिया करवाए हैं| कहा जा रहा है कि इनमे से ज्यादा दस्तावेज़ ट्रेनिंग सम्बंधित हैं|

Source: ABP News 




By: Sharma on Friday, February 9th, 2018

get I Suppport Namo app here