ये 3 हिंदी गीत गाने से पहले दो बार जरुर सोचियेगा, वरना हो सकती है जेल

बॉलीवुड इंडस्ट्री का नाम जब भी जहन में आता है तो इसकी सुपरहिट फिल्में और गीतों का सिलसिला दिमाग में घूमने लगता है. हिंदी गीत बॉलीवुड की शान हैं. हमारी बॉलीवुड इंडस्ट्री अपने सोंग्स के विषय को लेकर आए दिन कोई ना कोई न्य एक्सपेरिमेंट कर रही है. वैसे देखा जाए तो बिना अच्छे गीतों के कोई भी फिल्म का हिट हो पाना न-मुमकिन हैं. संगीत की मधुर लय जब तक दिल को ना छू ले, तब तक हर गीत फ़िज़ूल लगता है. गीतों का निर्माण आज से कईं सालों पहले किया गया था. उस समय के गीत काफी भावुक और धार्मिक होते थे. लेकिन अब बदलते समय के साथ साथ युवा पीढ़ी ने गीतों को भी मॉडर्न बना दिया है.

आपने ऐसे कईं गाने सुने होंगे जिनका मतलब बेतुका होता है लेकिन इसके बाद भी उनका म्यूजिक हमे उन्हें बार बार सुनने पर मजबूर कर देता है. गानों की ताकत का लोहा बड़े बड़े राजा-महाराजा भी मानते आए हैं. तानसेन का संगीत आज भी एक मिसाल है. यह गीत ही तो है जो हमारे खराब मूड को भी तरो ताज़ा बना देते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि गीत आपको जेल की हवा खिला सकते हैं? जी हाँ, दोस्तों, यह बात बिलकुल सच है. आज हम आपको बॉलीवुड के ऐसे 5 गीतों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें गाने से आप जेल की काल कोठडी में पहुँच सकते हैं.

मैं लैला लैला चिल्लाऊंगा

आज के समय में सडकछाप आशिकों की तादाद काफी बढ़ चुकी है. ऐसे में हर आशिक बीच राह खड़ा हो कर लड़की को पटाने के लिए ये नए गीत गाता रहता है. लेकिन बता दें कि एक समय में सुपरस्टार गोविंदा पर फिल्माया गया गीत “मैं लैला लैला चिल्लाऊंगा.. कुर्ता फाड़ के” को आज के वक़्त में पब्लिक प्लेस पर गाना अपराध माना गया है. इसके लिए आपको आइपीसी की पब्लिक ओब्‍सेनिटी की धारा 294 के तहत तीन महीने तक की सज़ा हो सकती है.

तू मायके चली जाएगी

ऋषि कपूर और डिंपल कपाडिया की सुपर हिट फिल्म “बॉबी” का मशहूर गीत “तू मायके चली जाएगी.. मैं डंडा लेकर आऊंगा” आपने जरुर ही सुना होगा. लेकिन बता दें कि रियल लाइफ में इस गीत को गाने से मर्दों पर महिला उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार किया जा सकता है. इसके लिए अपराधी पर 498ए की धारा के तहत सज़ा मिल सकती है.

तेरे घर के सामने एक घर बनाऊंगा

ब्लैक एंड वाइट के जमाने को सबसे उत्तम सिनेमा का दौर माना यदि आपके पास प्रेमिका के घर सामने की जगह पर कानून की मंजूरी नहीं मिली है तो इसे गाने से आपको आईपीसी की धारा 247 के तहत सज़ा और 50 हज़ार रुपए का जुर्माना हो सकता है. जाता है. उस समय के गीतों का अपना एक ख़ास और गहरा मतलब हुआ करता था. ऐसे में आपने देव आनंद और नूतन का गीत “तेरे घर के सामने एक घर बनाऊंगा” जरुर ही सुना होगा. यह गीत लता मंगेशकर और मोहम्मद रफ़ी के हिट गीतों में से एक माना जाता है.

लेकिन यदि आपके पास प्रेमिका के घर सामने की जगह पर कानून की मंजूरी नहीं मिली है तो इसे गाने से आपको आईपीसी की धारा 247 के तहत सज़ा और 50 हज़ार रुपए का जुर्माना हो सकता है.

News Source

 

By: Staff on Thursday, January 10th, 2019