बड़ी खबर : दुनिया के देशों की ऐसी लिस्ट सामने आई है कि देखकर आप सभी के होश उड़ जायेंगे !

जब से नरेन्द्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने हैं तब से देश में कुछ बुद्धजीवियों द्वारा असहिष्णुता एक बहुत ही बड़ा मुद्दा बनाया गया, वो बात अलग है कि जिन्होंने ये मुद्दा बनाया उनकी ही बेइज्जती हुई क्योंकि एक तरफ देश की जनता को ये भी पता चल गया कि देश में कितने गद्दार है और और ये भी समझ आ गया जनता को कि देश को बदनाम कौन कर रहा है.

देश में पिछले कुछ सालों में सहिष्णुता बनाम असहिष्णुता पर काफी बहस हुई है. इस बहस में बार-बार इस बात का जिक्र किया गया है कि नरेंद्र मोदी की सरकार के आने के बाद से देश में असहिष्णुता बढ़ी है. सरकार को असहिष्णुता फैलाने के लिए जिम्मेवार तक ठहराया गया और कई नामी गिरामी हस्तियों ने देश में बढ़ रही असहिष्णुता का रोना रोकर अवॉर्ड वापसी का खेल भी खेला.

मोदी सरकार के आने के बाद से ही देश में सहिष्णुता बनाम असहिष्णुता पर बहस शुरू हो गई. समाज का एक वर्ग इस बात को मानने लगा कि देश में मोदी सरकार के आने के बाद से हीं असहिष्णुता बढ़ी है. लेकिन ताज़ा सर्वे के आंकड़े देख लें तो तस्वीर साफ होकर सामने आ जाएगी. आप शायद नहीं जानते होंगे कि सहिष्णुता के पैमाने पर भारत की दुनिया में मौजूदा स्थिति क्या है. इसे लेकर एक नए सर्वे का परिणाम सामने आया है. Ipsos MORI की तरफ से कराए गए इस सर्वे के मुताबिक, भारत सहिष्णु देशों की लिस्ट में चौथे स्थान पर है। भारत से ऊपर इस सूची में तीन हीं देश हैं वह हैं कनाडा, चीन और मलेशिया जिसके बाद इस सूची में भारत का नंबर आता है.

सर्वे के आंकड़े क्या कहते हैं?

2018 के जनवरी-फरवरी में Ipsos MORI की तरफ से ये सर्वे किया गया है. इसके मुताबिक, सहिष्णु देशों के मामले में कनाडा पहले पायदान पर है. इसके बाद इस सूची में दूसरे पायदान पर चीन है, जबकि मलेशिया का तीसरा स्थान है.

इस सर्वे के लिए 27 देशों में करीब 20 हजार लोगों का इंटरव्यू किया गया. इसमें उन तथ्यों को सामने लाने की कोशिश की गई जो आम लोगों के मुताबिक, मतांतर या समाज को बांटते हैं. सर्वे के मुताबिक, 63 फीसदी भारतीय अलग-अलग बैकग्राउंड्स, संस्कृति या दृष्टिकोण वाले लोगों के प्वाइंट पर भारत को सहिष्णु देश मानते हैं. इस सर्वे के मुताबिक, 63 फीसदी भारतीयों को लगता है कि दूसरे बैकग्राउंड, संस्कृति या दृष्टिकोण वाले लोगों से मेलजोल पर आपसी समझ और सम्मान की भावना पैदा होती है.

देखिये भारत का स्थान कौनसा है –

बॉलीवुड के “सेक्युलर” एक्टर एक्ट्रेस ऐसी खबर को फैलायेंगे या नहीं पता नहीं, उनको तो बस एक मौका चाहिए कि कब भारत के खिलाफ या भारत को बदनाम करने के लिए उनके हाथ कुछ मुद्दा लग जाये और वो झट से भारत को असहिष्णु घोषित करने की फिराक में रहते हैं. ना ही सेक्युलर मीडिया इस खबर को दिखायेगा. ये बहुत ही महत्वपूर्ण सर्वे है, ये मीडिया में देखने को नहीं मिलेगा, अब ये देश की जनता के हाथ में हैं, आपके हाथ में हैं, ज्यादा से ज्यादा शेयर करिए, क्योंकि इस बात पर हर भारतीय को गर्व होना चाहिए.

Source: The Insist Post

By: Shah on Friday, April 27th, 2018